Awara Masiha - A Vagabond Angel

एक भटकती आत्मा जिसे तलाश है सच की और प्रेम की ! मरने से पहले जी भरकर जीना चाहता हूं ! मर मर कर न तो कल जिया था, न ही कल जिऊंगा !

188 Posts

3 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 25540 postid : 1310190

प्रेम की वज़ह

Posted On: 28 Jan, 2017 में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

यह तेरे ही तो दिल का दर्द है ,
जो मेरे सीने में उठता है फिर इस दर्द को हम पिए ,
दोनों की ऐसी कौन सी सजा है ?
यह तेरा ही तो आँशु है ,
जो मेरी आँखों से बहते है फिर इस सजा को इस तरह काटे ,
ऐसा कौन सा गुनाह हमने किया है ?
यह तेरी ही रूह का तो आकर्षण है ,
जो मुझे तेरी तरफ खींचता है
फिर मुझसे तू इस तरह से दूर जाए ,
ऐसी कौन सी मेरी ख़ता है ?
यह तेरा ही तो बनाया बंधन है ,
जिससे मैं बंधा हूँ फिर मुझसे यूँ रुसवा होने की ,
यह किसके लिए तेरी वफ़ा है ?
यह तेरा ही तो मोह है ,
जिसके खातिर मैं तेरे पीछे पड़ा हूँ फिर मुझसे रूठ जाने की ,
यह कौन सी तेरी अदा है ?
यह तेरा ही तो जीवन है ,
जिसके सहारे चलती मेरी साँस है फिर इस बात को भूल जाने की ,
ऐसी कौन सी वजह है ?
यह तेरा ही तो शरीर है ,
जिससे मेरा भी दिल जुड़ा है फिर इस तरह से मुझे अलग करने की ,
यह किसके प्रेम की  वज़ह है ?

By

Kapil Kumar

Awara Masiha



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran