Awara Masiha - A Vagabond Angel

एक भटकती आत्मा जिसे तलाश है सच की और प्रेम की ! मरने से पहले जी भरकर जीना चाहता हूं ! मर मर कर न तो कल जिया था, न ही कल जिऊंगा !

195 Posts

3 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 25540 postid : 1383321

तुझे जी भरकर प्यार करूँ

Posted On: 3 Feb, 2018 कविता में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

तुझे जी भरकर प्यार करूँ
आजा मेरी बांहो में तुझे जी भरकर प्यार करूँ ,
तुझे बाहों  के झूले झूलकर तेरा यूँ सत्कार करू ,
यूँ तो तू रहती मुझसे उखड़ी उखड़ी सी ,
हाथों  में तेरा चेहरा लेकर तुझसे आँखे चार करू ,
तुझे समझ नहीं प्रेम की भाषा की ,
समझती है इसे तू बात दूसरी दुनिया ,
एक  बार मेरे साथ कुछ पल जी कर देख ,
तेरे दिल में जमा यह मैल अपने प्रेम से साफ़ करू ,
हर मोहब्बत में अंजाम नहीं होता ,
कुछ रिश्तो का समाज में नाम नहीं होता ,
जिससे दिल खुश जाए वही जाम है ,
अधूरी इच्छाओं के जीना नहीं हमारा काम है !

20140726_183533 - Copy

आजा मेरी बांहो में तुझे जी भरकर प्यार करूँ ,

तुझे बाहों  के झूले झूलकर तेरा यूँ सत्कार करूँ ,

यूँ तो तू रहती मुझसे उखड़ी उखड़ी सी ,

हाथों  में तेरा चेहरा लेकर तुझसे आँखे चार करूँ ,

तुझे समझ नहीं प्रेम की भाषा की ,

समझती है इसे तू बात दूसरी दुनिया ,

एक  बार मेरे साथ कुछ पल जी कर देख ,

तेरे दिल में जमा यह मैल अपने प्रेम से साफ़ करूँ ,

हर मोहब्बत में अंजाम नहीं होता ,

कुछ रिश्तो का समाज में नाम नहीं होता ,

जिससे दिल खुश जाए वही जाम है ,

अधूरी इच्छाओं लेकर  जीना नहीं हमारा काम है !

By

Kapil Kumar

Awara Masiha



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran